तुम सब सदा यूँ ही मुस्कुराते रहो

तुम सब सदा यूँ ही मुस्कुराते रहो

तुम सब सदा यूँ ही मुस्कुराते रहो,

और परमात्मा तो अपने आप ही खिंचा चला आएगा 

तुम सब सदा यूँ ही मुस्कुराते रहो,

और ज्ञान का प्रकाश अपने आप ही तुम्हारे अंदर उज्वलिक होगा

तुम सब सदा यूँ ही मुस्कुराते रहो,

और जीवन का आनंद तुम्हारी आत्मा को रंग बिरंगा कर देगा

तुम सब सदा यूँ ही मुस्कुराते रहो,

और प्रेम की गंगा तुम्हारे प्यासे कंठ को सदा के लिए अमृत से भर देगी

तुम सब, बस सदा यूँ ही मुस्कुराते रहो ।



आज हमने फिर से एक कमाल का करिश्मा देखा

आज हमने फिर से एक कमाल का करिश्मा देखा

आज हमने फिर से एक कमाल का करिश्मा देखा

ख़ुश्क, प्यासी, तपती धरती के सीने मे,

अचानक पता नहीं कहाँ से कुछ बादलों ने

ढ़ेर सारा बारिश का पानी उढ़ेल दिया

टिप टिप पड़ती बूंदों ने जैसे धरती को फिर से जवाँ कर दिया

उसकी झुरिआं कुछ ही पलों में खो सी गईं

उसकी खुशबू चंद ही मिनटों में बदल सी गयी

फिर हवा चली, पेड़ भी झूमे,

मस्त झूमे पतियों ने भी पक्षियों के साथ मिलकर खूब संगीत बनाया

मानो सारी फिज़ा में एक रुमानी सी छा गयी हो

दिल मे आया की कैसे बांध लूँ इन पलों को अपने तकिये से

और सो जायूँ उसपे सर रख कर

या पी लूँ इन बारिश की बूंदों को, और हमेशां के लिए अपना बना लूँ

फ़िर एक बिजली कौंधी, बादल गड़गड़ाय

और दिल खोल के बरसे

जैसे अपना सब कुछ लुटा रहे हों

जैसे पूरी धरती में बाँट रहें हों अपने को

जैसे सब की रुमानियत में ही उनकी रुहानियत भी छिपी हो

हुम्म्म, एक बड़ा गहरा राज़ खोल गए ये बादल आज

सिखा गए, की बांटने से ही तुम्हारी रुहानियत भी खिलेगी

यूँ तो सब अकेले, प्यासे भटक ही रहे हैं

तुम अपने हृदय के बादलों से

बस सब पर प्रेम की वर्षा कर दो

और फ़िर से एक बार इस धरती के ज़ख्मो को भर द

बरसो, खूब बरसो, तब तक बरसो

जब तक बारिश की एक बूँद भी तुम्हारे भीतर शेष है

रुको मत, डरो मत, अनन्त सागरों का जल तुम्हे भरने को तत्पर है

बरसो, खूब बरसो और प्रेम की गंगाओं को लबालब भर दो

क्योंकि, आज हमने फ़िर से एक कमाल का करिश्मा देखा |



आ बैठ मेरे पास कुछ बात करें ।

आ बैठ मेरे पास, कुछ बात करें ।

आ बैठ मेरे पास, कुछ बात करें ।

इस लम्हे की, और इसमें छिपे ब्रम्हाण्ड की

इस रहस्य की, और इसमें छिपे ज़ाहिर की

आ बैठ मेरे पास, कुछ बात करें ।

इस आकार की, और इसमें छिपे निराकार की

इस हवा की, और इसमें आती उसकी ख़ुशबू की

आ बैठ मेरे पास, कुछ बात करें ।

इस एक की, और इसमें छिपे अनेक की

इन गुणो की, और इनमें छिपे निर्गुण की

आ बैठ मेरे पास, कुछ बात करें ।

इस नाद की, और इसमें छिपे अनाहद की

इस शोर की, और इसमें छिपी ख़ामोशी की

आ बैठ मेरे पास, कुछ बात करें ।

कुछ तेरी, कुछ मेरी, और तेरी मेरी से बनी इस दुनिया की

इस प्रकट की, और इसमें छिपे अप्रकट की

आ बैठ मेरे पास, कुछ बात करें ।

कुछ कही, कुछ अनकही

कुछ शब्दों की, और कुछ शब्दों से परे की

प्रेम की, प्रतीक्षा की, हसने की, गाने की

और कुछ मौन की

आ बैठ मेरे पास, कुछ बात करें ।



ख़ामोशी

ख़ामोशी

हर आवाज़ के पीछे एक ख़ामोशी छुप्पी खड़ी है

तुम आवाज़ों को मत छोड़ना

बस आवाज़ों की लहरों पर तैरना सीख लो

यह आवाज़ें तुम्हे अपने आगोश मे लेकर

फिर से एक ख़ामोशी की दुनिया के दर्शन करा ही देगी

तुम आवाज़ों से मुक्त होने की जल्दी मत करना

बस तैरना जान लो, पीना सीख लो, और आवाज़ों की यात्रा पे निकलो

आवाज़ें तुम्हे कब से पुकार रही हैं

कब से तुम्हे अपने भीतर छुप्पी ख़ामोशी से मिलवाना चाह रही हैं

सुनो, और सुनो, बस सुनो

सुनो इन आवाज़ों में छुप्पी ख़ामोशी को

अपने भीतर और बाहर

बस यही एक मात्र सत्य है

यह ख़ामोशी, बस सुनो ||



Mother of Universe

Mother of Universe

O Mother of the Universe,

To you I owe my life

O Mother of all life forms,

From you everything emerges,

and in you everything merges back

O Mother of all phenomenon,

Allow me to see all phenomenon as you alone

O Mother of all that there is,

Bless me to worship you endlessly

O Mother of the Universe

To you, I forever owe this life...



A Book of Pulsating Hearts

A Book of Pulsating Hearts

Stay connected with Sri Anish

Get weekly updates on the latest blogs & satsangs via newsletters right in your mailbox.

Get added to Saadho Whatsapp Updates Group


Drop us your number


Share message on below QR code

A Book of Pulsating Hearts

Pages were white, though the ink was red

The words were still alive

There were some memories hidden in those words

Dialogues were old but were still alive, pulsating

They were fresh, as if, of this moment

And there was a fragrance coming from these memories

I checked a bit and realized that the fragrance was of love

Oh which means, that love was still alive, even today

And was waiting for me to touch it again

Caress it and make it my own again

But whose fragrance of love it was

Of those, who say that they love me

Or, fragrance of my own love

Or, of that divine’s love, seeds of which are hidden in each heart

Question was deep, but lucid

Sacred like Ganges

The answers were not to be found in shallow waters

Courage had to be gathered for a deep dive

Because pearls are found only in deep seas

On the waves, you get only white foam in your hands

Few courageous ones went to discover the answer

Jumped in the oceans, kissed the depths, embraced the darkness

But the moment they found the pearl, they dissolved

Oh! What a strange occurrence it was

Today morning, with cold breeze, the fragrance came again

And said softly, that on white pages, some secrets are hidden

Which are found only if you drown

Ink just makes you entangled

Because pictures change colours

Yes, every moment, pictures just keep changing colours…

A book of pulsating hearts

Pages were white, though the ink was red