Category Poems

आज हमने फिर से एक कमाल का करिश्मा देखा

आज हमने फिर से एक कमाल का करिश्मा देखा, ख़ुश्क, प्यासी, तपती धरती के सीने मे, अचानक पता नहीं कहाँ से कुछ बादलों ने, ढ़ेर सारा बारिश का पानी उढ़ेल दिया...

तुम सब सदा यूँ ही मुस्कुराते रहो

तुम सब सदा यूँ ही मुस्कुराते रहो, और परमात्मा तो अपने आप ही खिंचा चला आएगा तुम सब सदा यूँ ही मुस्कुराते रहो, और ज्ञान का प्रकाश अपने आप ही तुम्हारे अंदर उज्वलिक होगा

ख़ामोशी

हर आवाज़ के पीछे एक ख़ामोशी छुप्पी खड़ी है, तुम आवाज़ों को मत छोड़ना, बस आवाज़ों की लहरों पर तैरना सीख लो ...

कविता – संभावनाओं का संसार

कविता - संभावनाओं का संसार
यह कविता 'संभावनाओं का संसार' श्री अनीश की लिखी कुछ चुनिन्दा कृतियों में से एक है | उनकी हर एक कविता कुछ गहरे सन्देश अपने भीतर छुपाये हुए है...